'नहाय खाय' के साथ आज से छठ महापर्व की शुरुआत, दिल्ली में कब है छुट्टी और क्या हैं गाइडलाइन

 


चार दिवसीय छठ महापर्व की आज सोमवार (08 नवंबर) से शुरुआत हो गई है। आज छठ पूजा का पहला दिन है और इन दिन 'नहाय खाय' की जाती है। छठ में व्रती (उपवास रखने वाले लोग) घुटने भर पानी में सूर्य देव को उपवास करके 'अर्घ्य' देते हैं। बिहार और यूपी के अलावा ये त्योहार अब देश के अन्य हिस्सों में भी मनाया जाता है। छठ वर्ष में दो बार मनाया जाता है। दिवाली के बाद मनाया जाने वाला छठ कार्तिक के महीने में मनाया जाता है। दिल्ली में इस बार छठ पर्व पर सार्वजनिक अवकाश की घोषणा की है।

5 नवंबर को दिल्ली सरकार ने कहा था कि दिल्ली सरकार ने छठ पूजा के कारण इस साल 10 नवंबर को सार्वजनिक अवकाश घोषित किया है। पिछले साल कोरोनो वायरस (कोविड-19) प्रतिबंधों के कारण छठ पूजा के लिए दिल्ली में कुछ खास तैयारी नहीं की गई थी। छठ का त्योहार राष्ट्रीय राजधानी में राजनीतिक महत्व रखता है क्योंकि पूर्वांचल (पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार के मूल निवासी) जो दिल्ली में बसे हुए हैं और त्योहार मनाते हैं, जो दिल्ली शहर में एक प्रमुख वोट बैंक हैं। आम आदमी पार्टी (आप) के नेता सौरभ भारद्वाज ने पिछले सप्ताह कहा था कि दिल्ली सरकार करीब 1,100 स्थानों पर छठ पूजा का आयोजन कर रही है।

दिल्ली में सभी पूजा घाटों पर कोरोना के नियमों का पालन करना होगा और मास्क लगा कर रखना होगा। दिल्ली सरकार ने कहा है कि छठ घाटों पर इस बात का ध्यान रखा जाएगा कि कोरोना नियमों कोई उल्लंघन ना हो।

छठ का त्योहार 'नहाय खाय' की रस्म से शुरू होता है, जो आज (08 नवंबर) मनाया जाएगा। व्रत रखने वाले भक्त इस दिन पहले स्नान करते हैं, साफ कपड़े पहनते हैं और सूर्य देव के लिए प्रसाद तैयार करते हैं। प्रसाद में चना दाल और कद्दू भात (कद्दू चावल) इस दिन बनाया जाता है। जो एक लोकप्रिय प्रसाद है।

दूसरे दिन गुड़ और अरवा चावल से बनी खीर का प्रसाद बनाया जाता है और शाम को खाया जाता है। इस दिन सुबह से निर्जला व्रत रखकर शाम को खीर का प्रसाद खाना होता है। यह सबसे कठिन दिन है क्योंकि इसी के बाद व्रती पूरे निर्जला (बिना पानी के) उपवास शुरू करते हैं जो 36 घंटे तक चलता है।


Post a Comment

0 Comments